-A A +A
अंतिम नवीनीकृत: 17-सितंबर-21

एफएक्यू

पदनामित अधिकारी के सम्पर्क विवरण क्या हैं जो निवेशकों की शिकायतों को दूर करने और संभालने के लिए उत्तरदायी है ?

क्रम सं. नाम ई-मेल सम्पर्क नं.
1 सुश्री शर्मिला छिकारा sharmila[dot]chhikara[at]ifciltd[dot]com
complianceofficer@ifciltd.com
011-4173 2061

स्टॉक एक्सचेंजों में प्रकटन के लिए प्राधिकृत प्रमुख प्रबन्धकीय कार्मिकों के सम्पर्क विवरण क्या हैं ?

सेबी (सूचीकरण दायित्व एवं प्रकटन अपेक्षाएं) विनियमन, 2015 के विनियम 30(5) के प्रावधानों के अनुसरण में निम्नलिखित प्रमुख प्रबन्धकीय कार्मिकों में से किसी को भी उक्त विनियम के अधीन स्टॉक एक्सचेंजों में प्रकटन के लिए प्राधिकृत किया गया हैः


क्रम सं. प्रमुख प्रबन्धकीय कार्मिक का नाम पदनाम ई-मेल आईडी फैक्स टेलीफोन
1 श्री मनोज मित्तल प्रबन्ध निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी md-ceo@ifciltd.com   011-41732000
2 श्री सुनील कुमार बंसल उप प्रबन्ध निदेशक dmd@ifciltd.com   011-41732000
3 श्रीमती झुम्मी मंत्री मुख्य वित्तीय अधिकारी Jhummi.mantri@ifciltd.com 011-26230199 011-41732000

शेयर अन्तरण की प्रक्रिया क्या है और इसमें कितना समय लगता है ?

शेयर प्रमाणपत्र के साथ विधिवत् निष्पादित तथा अन्तरणकर्ता तथा अन्तरिती के नाम का उल्लेख करते हुए शेयर हस्तांतरण विलेख, जो विधिवत् रूप से हस्ताक्षिरत हों और जिन पर स्टॉम्प लगाई गई हों, को रजिस्ट्रार व ट्रांसफर एजेंट अर्थात् एमसीएस शेयर ट्रांसफर एजेंट लि. के पास भेजा जाना चाहिए । हस्ताक्षर के मिलान न होने की आपत्ति से बचने के लिए प्राथमिकता के रूप में हस्ताक्षर बैंक या नोटरी या एक मजिस्ट्रेट द्वारा सत्यापित किए जाने चाहिएं । शेयर हस्तांतरण विलेख के पीछे निष्पादन की तारीख को शेयरों के बाजार मूल्य या क्रय मूल्य का 0.25 प्रतिशत (जो भी अधिक हो) के शेयर हस्तांतरण स्टॉम्प लगाए जाएं । अन्तरिती को पैन कार्ड की स्वयं द्वारा सत्यापित एक प्रति भी संलग्न करनी होगी ।

यदि विधिवत् रूप से भरे हुए और निष्पादित किए गए शेयर प्रमाणपत्र के साथ शेयर हस्तांतरण विलेख रजिस्ट्रार/आईएफसीआई लि. को प्राप्त होते हैं तो आमतौर पर हस्तांरण की प्रक्रिया में 15 दिन लगते हैं ।

शेयरों को उपहार देने के मामले में क्या प्रक्रिया है ? क्या उसमें स्टॉम्प डयूटी लगेगी ?

उपहार स्वरुप प्राप्त शेयरों के मामले में, उनके पंजीकरण की प्रक्रिया शेयरों के सामान्य हस्तांतरण की प्रक्रिया के समान ही होगी। उपहार स्वरुप प्राप्त शेयरों के मामले में स्टांप शुल्क की वर्तमान दर हस्तांतरण विलेख के निष्पादन की तारीख पर प्रचलित बाजार मूल्य का 0.25 प्रतिशत है।

शेयरों के संप्रेषण की क्या प्रक्रिया है ? (शेयरधारक की मृत्यु के मामले में अन्तरण)

शेयरों का संप्रेषण पंजीकृत शेयरधारक की मृत्यु के मामले में किया जाता है। शेयरों के संप्रेषण के लिए, अनुबंध 1 में दिए गए दस्तावेजों को प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

यदि शेयरों को संयुक्त नाम से धारित किया गया था, तो ऐसी दशा में केवल मृतक शेयरधारक का नाम ही हटा दिया जाता है। मृत पंजीकृत शेयरधारक के मृत्यु प्रमाण पत्र की एक प्रति सक्षम अधिकारियों (मजिस्ट्रेट, नोटरी, सरकारी , राजपत्र अधिकारी, राष्ट्रीयकृत बैंकों के प्रबंधकों या आईएफसीआई के अधिकारियों) द्वारा विधिवत सत्यापित कर शेयर प्रमाणपत्र के साथ रजिस्ट्रार/आईएफसीआई के पास भेजा जाना चाहिए ।

एकल शेयरधारक के मामले में, शेयरों को उन व्य़क्तियों के पक्ष में संपेक्षित किया जाएगा जो मृत पंजीकृत शेयरधारक द्वारा निष्पादित वसीयत के अनुसार उसके वारिस हो ।

यदि मृत शेयरधारक ने कोई भी वसीयत नहीं छोड़ी है, तो ऐसी स्तिथि में, शेयरों का संप्रेषण केवल उत्तराधिकार प्रमाण पत्र या प्रशासनिक पत्र के प्रस्तुत करने पर प्रभावित होगा ।

डुप्लीकेट शेयर प्रमाणपत्र जारी करने की क्या प्रक्रिया है ? (अनुबन्ध ।।)

शेयर प्रमाणपत्र के गुम होने की स्थिति में, प्रमाणपत्र नं./फोलियो नं. तथा डिस्टिक्टव नं. सूचित करते हुए आईएफसीआई/रजिस्ट्रार एण्ड ट्रांसफर एजेंट को रिपोर्ट करना चाहिए ताकि कम्पनी शेयरों का अन्तरण न करे ।

शेयरों को डी-मैट कराने की क्या प्रक्रिया है ?

शेयरों को डी-मेट रूप में में परिवर्तन कराने के लिए शेयरधारक को डिपाजिटरी भागीदार (डीपी) के साथ डिपाजिटरी खाता खोलना होगा ।

डी-मैट प्रक्रिया में, शेयरधारकों के लिए शेयर प्रमाणपत्रों को उनके डीपी के पास जमा करना अपेक्षित है । इसके बदले में डीपी उन्हें रजिस्ट्रार व ट्रांसफर एजेंट के पास सत्यापन के लिए भेजते हैं और यदि यह सही पाए जाते हैं तो इन्हें डी-मैट कर दिया जाता है तथा डीपी द्वारा शेयरधारक के खाते में इलेक्ट्रानिक रूप से शेयरों के बराबर संख्या क्रेडिट कर दी जाती है ।

पते में परिवर्तन के लिए किसे अप्रोच किया जाए ?

रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट, अर्थात एमसीएस शेयर ट्रांसफर एजेंट लि.

मुझे कुछ समय से लाभांश प्राप्त नहीं हो रहा । कृपया सूचित करें ।

आईएफसीआई ने वित्तीय वर्ष 1999 -2000 से वित्तीय वर्ष 2007-08 के लिए कोई लाभांश घोषित नहीं किया था। 1998-99 तक घोषित लाभांश, जिसका भुगतान नहीं हुआ है, पहले से ही निवेशक शिक्षा और संरक्षण निधि (आईईपीएफ) को हस्तांतरित कर दिया गया है और अब उन पर कोई दावा नहीं किया जा सकता है।

वर्ष 2008-09 के बाद से, कंपनी ने लाभांश की घोषणा की है। अभी तक उसके प्राप्त न होने की स्थिति में, निवेशक को अपना फोलियो संख्या/डीपी-ग्राहक पहचान संख्या उल्लिखित कर कंपनी या उसके रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट को लिखना चाहिए।

मैं अपने खाते में सीधे ही कैसे लाभांश प्राप्त कर सकता हूं ?

भौतिक रूप के शेयरों के लिए, शेयरधारक को हमारे रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट, अर्थात एमसीएस शेयर ट्रांसफर एजेंट लिमिटेड को अनुबंध 3 में दिए गए प्रारूप के अनुसार ‘‘नेशनल इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग सेवा‘‘ (एनईसीएस) जनादेश फार्म जमा करना होगा। जिन निवेशकों के शेयर डीमैट फॉर्म में हैं, उन्हें एनईसीएस जनादेश फार्म सीधे अपने डिपॉजिटरी भागीदार (डीपी) के पास जमा करना होगा।